Education Social Uttar Pradesh

11 वर्ष के छात्र ने दिखाया अपनी प्रतिभा प्रदर्शन, 19 महीने में कुरान कंठस्त/ हिफ्ज़/ किया।

11 वर्ष के छात्र ने दिखाया अपनी प्रतिभा प्रदर्शन, 19 महीने में कुरान कंठस्त/ हिफ्ज़/ किया।

जलालाबाद,शामली/जिशान काजमी।

मां, बच्चे की प्रथम पाठशाला होती है। मां की गोद से बच्चा बहुत कुछ सीख कर बड़ा होता,जब बड़ा होता है तो उसको मां के अलावा उसको गुरु द्वारा शिक्षा संस्कार प्रदान किए जाते है वही छात्र अपने मां बाप एवम गुरु की शिक्षाओं,एवम संस्कारों से समाज में एक चमकता सितारा बनता है जो अपनी प्रतिभा, प्रदर्शन से अपने माता पिता,गुरु का मान बढ़ाता है,नाम रोशन करता है।जिस पर सबको फख्र होता है तो वही अन्य छात्रों के लिए प्रेरणा स्रोत भी, गौर तलब है गांव हसनपुर लुहारी एक ऐतिहासिक बस्ती है,बुजुर्गों की सर जमीन है । यहां से पूरी दुनिया में मानवता इंसानियत का सबक दिया जाता रहा है। यह काम उम्र के बच्चो एवम छात्र छात्राओं में एक से बढ कर एक प्रतिभा ,अपना प्रदर्शन कर गांव का नाम रोशन कर चुकी है विगत दिनों पुष्पेंद्र सैनी की पुत्री प्रतिभाशाली छात्रा हर्षी सैनी ने मथुरा में आयोजित प्रतियोगिता जूनियर स्तर की 200 मीटर की दौड़ में प्रथम स्थान प्राप्त कर गोल्ड मैडल जीत कर अपने गांव,जनपद का नाम रोशन किया था ।ऐसा ही एक उदाहरण गांव हसनपुर लुहारी का एक ग्यारह वर्षीय छात्र हाफिज मो सलीम ने अपनी प्रतिभा का ऐसा उदाहरण पेश किया जिस पर उसके माता पिता,गुरु,एवम ग्रामवासी गौरव महसूस करते हुए,मुबारकबाद दी रहे है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार के थानाभवन विधानसभा के अंतर्गत ग्राम हसनपुर लुहारी के मदरसा इस्लामिया अरबिया कासिम उल उलूम के छात्र मो सलीम खान ने केवल 19 महीने में कुरान हिफ्ज़ सम्पूर्ण कंठस्थ किया है । गुजिशता शबे बरात की रात में, अपने गुरु उस्ताद मौलाना मुफ्ती नूर हसन कासमी को हाफिज मोहम्मद सलीम खान ने 15 पारे सुनाने का मुकम्मल मुकाम हासिल किया। मौलाना मुफ्ती नूर हसन कासमी जोलवी ने दुआ कराई, गांव के लोग बड़ी तादाद में शरीक हुए। बच्चे के पिता मोहम्मद शाहनवाज खान ने कहा हमारे लिए यह गर्व की बात है हाफिज मोहम्मद सलीम खान ने हमारा और अपने मदरसे का और हमारे क्षैत्र का नाम रोशन किया है।इस बच्चे को और इस मदरसे को बच्चे के उस्ताद को दुआओं से नवाजा , पूरे गांव में खुशी की लहर है देखने को मिली।
इस काम उम्र हाफिज को मुबारक बाद देने वाले मदरसे के मोहतमिम हाफिज रोशन अली, नाजिम मौलाना मुफ्ती नूर हसन कासमी जोलवी‌ मदरसे के उस्ताद कारी मोहम्मद सरताज साहब, मास्टर मोहम्मद साकिब,
साहब , मोहम्मद शमसुद्दीन अंसारी, मोहम्मद शराफत अंसारी, मोहम्मद नईम प्रधान टेंट वाले, मोहम्मद नईम प्रधान रंगरेज, मोहम्मद लारेब खान साहब, शाहनवाज खान साहब, कारी फैयाज साहब कारी जीशान साहब हाफिज अब्दुल समी हाफिज मोहम्मद नदीम हाफिज मोहम्मद जुनेद ,मोहम्मद सोहेल, मोहम्मद आलम, मोहम्मद जुल्फुकार, वगेरा शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *