Crime Maharashtra National Uncategorized

डोम्बिवली के 2 बीएचके फ्लैट में हो रही थी ड्रग्स की खेती, NCB ने रेड मारकर आरोपियों को किया गिरफ्तार।

डोम्बिवली के 2 बीएचके फ्लैट में हो रही थी ड्रग्स की खेती, NCB ने रेड मारकर आरोपियों को किया गिरफ्तार।

मुंबई:-मनोज दुबे

एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े ने बताया कि उनकी टीम को जानकारी मिली थी कि वर्सोवा इलाके में हाइड्रोपोनिक कैनेबी बेची जाती है। इसी जानकारी के आधार पर गुरुवार को मुंबई के वर्सोवा इलाके में एनसीबी ने रेड डाल कर दो लोगों को हिरासत में लिया जिनके नाम जावेद शेख और अरशद खत्री है।जिसके बाद आरोपियों ने डोम्बिवली के फ्लैट में गांजा उगाने की बात एनसीबी को बताई।
जानकारी के आधार पर नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने ठाणे के डोंबिवली इलाके के एक फ्लैट में हाइड्रोपोनिक पध्दति से उगाए जा रहे गांजे की खेती के मामले का भंडाफोड किया। डोम्बिवली पलावा सिटी में स्थित जिस 2 बीएचके फ्लैट के गमले में गांजा उगाया जा रहा था उसका मालिक सउदी अरब में रहता है। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि फ्लैट के मालिक ने ही गांजा उगाने के लिए पैसे दिए थे। इसके लिए बीज नीदरलैंड एम्सटर्डम से मंगाए गये थे। बीज के आर्डर डार्क वेब से दिए गये थे। छापेमरी के दौरान फ्लैट से एनसीबी ने 1 किलो गांजा भी बरामद किया है।
आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि घर रेहान खान का है। जो सऊदी अरब में रहता है। नशे की खेती के लिए पैसे वही मुहैया करा रहा था। अरशद हाइड्रोपोनिक पध्दति से गांजा उगाने में माहिर है। उगाए गये गांजे को बाजार में बेचने का काम जावेद करता था।यहां उगाए गए गांजे को मुंबई और पुणे के ड्रग पेडलर्स को 2500 रूपये प्रति ग्राम की दर से बेचा जाता था। हाइड्रोपोनिक तकनीक से उगाए गये गांजे की हाईसोसायटी की पार्टियों में बेहद मांग होती है। इस तकनीक के जरिए गांजा उगाने के लिए मिट्टी की जरूरत नहीं होती।यह पौधा तेजी से बढता है. इसलिए नशे का कारोबार करनेवाले इसे उगाने पर जोर देते है। एनसीबी अधिकारियों को जांच में पता चला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *