Crime Health Politics Uncategorized

देर रात कार्रवाई करने पहुचे पालघर जिले के एसपी गौरव सिंग पर रेती माफियाओं किया हमला

देर रात कार्रवाई करने पहुचे पालघर जिले के एसपी गौरव सिंग पर रेती माफियाओं किया हमला

> एसपी ने कहा कि मामले में पुलिसवाले लिप्त मिले तो उनपर भी कार्रवाई की जाएगी दो करोड़ रुपए का माल जप्त तीन गिरफ्तार

मुंबई : इंद्रदेव पांडे

पालघर जिले के विरार पुलिस स्टेशन क्षेत्र के कनरे स्थित खार्डी रेती बंदर पर अवैध खनन पर रविवार देर रात कार्रवाई करने गये पालघर एसपी पर रेती माफियाओं ने हमला कर दिया। हमले में एसपी गौरव सिंह व उनके साथ मौजूद दो पुलिसकर्मी बाल-बाल बच गए। हालांकि हमले के बाद मौके पर बड़ी संख्या में पुलिसबल पहुंच गया और सोमवार सुबह तक रेती माफियाओं पर कार्रवाई का सिलसिला चलता रहा। पुलिस की इस कार्रवाई में १५ जेसीबी व दो डंपर जब्त किए गए हैं। साथ ही तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने सभी आरोपियों पर भारतीय दंड कानून सहित धारा ३०७, ३७९, ३५३, ४१३, ४३१, ३४, पर्यावरण अधिनियम १४,१५,१९के तहत मामला दर्ज कर जांच कर रही है। एसपी ने कहा कि मामले में पुलिसवाले लिप्त मिले तो उनपर भी कार्रवाई की जाएगी।

विरार पूर्व कनरे स्थित खार्डी रेती बंदर जिला का सबसे बड़ा रेती बंदर है। पिछले कुछ वर्षों से इस बंदर पर प्रशासन ने रेती खनन पर रोक लगा रखी है लेकिनयहां बड़े पैमाने पर अवैध रूप से रेती खनन किया जा रहा है। माना जा रहा है किमहसूल विभाग व पुलिस की मिलीभगत से यहां खनन किया जा रहा है और रेती माफियाओं से पुलिस व महसूल विभाग को मोटी रकम मिलती है। इससे यहां रात भर सैकड़ों ट्रक रेती निकाली जाती है। इसकी सूचना जब पालघर एसपी गौरव सिंह को मिली तो वह पुलिस स्टेशन को बिना सूचित किए रविवार की रात १० बजे अपने बॉडीगार्ड व ड्राइवर के साथ खार्डी रेती बंदर पहुंच गए। उस वक्त वहां बड़े पैमाने पर रेती खनन हो रहा था। एसपी की गाड़ी देखते ही रेती माफिया इधर-उधर भागने लगे। इस दौरान एक डंपर क्रमांक एमएच ०४ एफजे ३२२१ के चालक ने एसपी व उनके साथ मौजूद दो पुलिसकर्मियों के ऊपर डंपर चढ़ाने की कोशिश की। हमले में तीनों बाल-बाल बच गये। मामले की सूचना विरार पुलिस को दी गई। सूचना के बाद वहां भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया।

मामले में तीन आरोपितों नीरज लाल यादव, अनिल तुकाराम चव्हाण व सुनील इंद्रजीत चव्हाण को गिरफ्तार किया गया है। साथ ही १५ जेसीबी व दो डंपर जब्त किए गए हैं जिसकी कीमत २ करोड़ ३५ लाख १२ हजार रुपये बताई जा रही है।

एसपी गौरव सिंह ने कहा कि रेत खनन पर पूर्ण प्रतिबंध के बाद भी यहां रेत निकाली जा रही थी। मामले की जांच में यदि पुलिसवाले लिप्त मिले, तो उनपर भी कार्रवाई की जाएगी। रेती माफियाओं के इस हमले को लेकर विरार पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं। माना जा रहा है कि विरार पुलिस के सरंक्षण में ही रेती माफिया अवैध खनन कर रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *