Cricket Crime Entertainment Health Politics Uncategorized

प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार करने वाले आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह को उद्धव ने बनाया मुंबई पुलिस आयुक्त

प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार करने वाले आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह को उद्धव ने बनाया मुंबई पुलिस आयुक्त

मुंबई – इंद्रदेव पांडे

भारत उस बदनुमा दाग को कभी नहीं भुला पाएगा जो 2008 की कांग्रेस सरकार ने हिंदुओं को बदनाम करने के लिये लगाया था. तब मालेगांव ब्लास्ट के बहाने देश में भगवा आतंकवाद की फर्जी कहानी कांग्रेस के नेता पी. चिदंबरम और दिग्विजय सिंह के द्वारा बनाई गयी थी जिसे बाद में अदालत ने झूठा और फर्जी करार दिया था. जांच के दौरान साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को गिरफ्तार करने वाले पुलिस अधिकारी परमबीर सिंह को अब उद्धव ठाकरे की सरकार ने मुंबई का पुलिस कमिश्नर बना दिया है.

एटीएस में आईजी रह चुके हैं परमबीर सिंह

परमबीर सिंह एटीएस में डिप्टी आईजी के पद पर भी रह चुके हैं. वे चंद्रपुर और भंडारा के जिला पुलिस अधीक्षक भी रह चुके हैं. मुंबई पुलिस कमिश्नर की रेस में परमबीर के साथ पुणे पुलिस आयुक्त के वेंकटेशम और १९८८ बैच के आईपीएस अफसर रजनीश सेठ का भी नाम था. लेकिन तथाकथित हिंदुत्ववादी पार्टी शिवसेना की सरकार ने परमबीर सिंह को वरीयता दी.

> इकबाल कासकर की गिरफ्तारी में बड़ी भूमिका

सितंबर २०१७ में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर की गिरफ्तारी के वक्त परमबीर सिंह ठाणे के पुलिस कमिश्नर थे. इकबाल को बिल्डर से उगाही की धमकी के आरोप में ठाणे क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था.

अंडरवर्ल्ड नेटवर्क तोड़ने के लिये जाने जाते हैं परमबीर सिंह

१९९३ के सीरियल बम ब्लास्ट के एक आरोपी को भी परमबीर सिंह ने पकड़ा था. इसके अलावा ठाणे पुलिस कमिश्नर रहने के दौरान इन्होंने ड्रग्स रैकिट केस में बॉलीवुड ऐक्ट्रेस ममता कुलकर्णी को आरोपी बनाया थी. ममता का पति विकी गोस्वामी भी इस केस में शामिल था. ड्रग्स रैकिट के केस में चंडीगढ़ के डीआईजी शाजी मोहन को भी गिरफ्तार किया था. अपने करियर में परमबीर सिंह ने अंडरवर्ल्ड से जुड़े बहुत सारे ऑपरेशन किए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *