Crime Health Politics

> गर्भवती पीड़ित महिला बोली नहीं है मुझे “‘मुंबई पुलिस पर भरोसा”” दो दिन बाद जाकर दर्ज हुआ मेरा एफआईआर

मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने कहा था “” महिलाओं की सुरक्षा हमारा सबसे बड़ा कर्तव्य है””

> गर्भवती पीड़ित महिला बोली नहीं है मुझे “‘मुंबई पुलिस पर भरोसा”” दो दिन बाद जाकर दर्ज हुआ मेरा एफआईआर

> सेंट्रल रीजन के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त एस. वीरेश प्रभु माहिम पुलिस को दिए जाँच के आदेश

एनसीपी नेताओ के नाम पर दहशत फैलाने की कोशिस
गर्भवती महिला सहित उसके परिवार के साथ मारपीट

मुंबई- इंद्रदेव पांडे

माहिम के मगदूमशाह दर्गा के पास रहने वाली एक २६ वर्षीय गर्भवती महिला और उसके परिवार के साथ मारपीट किए जाने का मामला सामने आया है .इस मामले में महिला के बयान पर माहिम पुलिस ने चार लोगो के खिलाफ शिकायत दर्ज किया है.विशेष की एनसीपी नेताओ के साथ पहचान का फायदा उठाकर परिसर में दहशत फ़ैलाने की कोशिस करने का आरोप महिला ने लगाया है.

मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह

माहिम पुलिस ने २६ वर्षीय गर्भवती पीड़ित महिलाऔर उसके परिवार वालो के साथ मारपीट करने के आरोप में आरोपी हसन खान ,रहीमा शेख ,आयूब ,रमीज़ा अय्याज सय्यद और बिजली खान के खिलाफ शिकायत दर्ज किया है. पीड़ित महिला ने दिए बयान के अनुसार पड़ोस में रहने वाला हसन का एनसीपी नेताओ के साथ आना जाना है. हसन महिला के ऊपर गलत नजर भी रखा है आए दिन महिला के लिए अलग अलग शब्दों का इस्तेमाल कर दुर्व्यहार कर रहा था. लेकिन महिला घर में विवाद होने के डर पति को इस बारे में नहीं बता रही थी.अचानक पांच मार्च के शाम को महिला के पति घर के बाहर नाले का काम करवा रहे थे. तभी हसन वंहा आने के बाद बिना कारण झगड़ा करना शुरू कर दिया इस के बाद हसन और उसे घर वालो ने उनके साथ मारपीट करने के साथ ही महिला के साथ भी मारपीट किये

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त सेंट्रल रीजन वीरेश प्रभु

इस मारपीट में महिला गर्भवती होने के कारण उसके पेट पर भी मार लग गए है. इस घटना के बाद महिला का उपचार भाभा अस्पताल में कराया गया डॉक्टरों के रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने महिला के बयान पर हसन और उसके घर वालो के खिलाफ शिकायत दर्ज किया है .पीड़ित महिला की माने तो हसन आस पड़ोस में एनसीपी के बड़े नेताओ के साथ संबंध होने का बताकर लोगो में दहशत फैलाने की कोशिस करता है. वह धमकी देते रहता है कि वह जिसे चाहे उसे उठवा सकता है .इसके कारण आस पास के लोग डर के मारे आवाज उठाने से कतराते है.

फाइट अगेंस्ट क्रिमिनल के पत्रकार से बातचीत करते हुए सेंट्रल रीजन के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त एस. वीरेश प्रभु ने कहा कि सबसे पहले इस घटना के बारे मे उन्हें पता ही नहीं जिसके बाद माहिम पुलिस स्टेशन के अधिकारियों को दिए जाँच के आदेश जिसके बाद रविवार के दिन पीड़ित महिला का माहिम पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने फिर से बयान दर्ज किया गया.

आरोपी हसन खान

वही माहिम पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड कानून सहित धारा ३५४,३२४,५०९,३३६,३२३,५०४,और ५०६ के तहत मामला दर्ज कर आगे की जाँच माहिम पुलिस स्टेशन के अधिकारी कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *