Crime Health Politics

निजामुद्दीन स्थित मरकज में पहले से जमा थे दो हजार लोग, इनमें से 200 कोरोना संदिग्ध निकले; अब बाकियों को इलाके से निकाला गया

निजामुद्दीन स्थित मरकज में पहले से जमा थे दो हजार लोग, इनमें से 200 कोरोना संदिग्ध निकले; अब बाकियों को इलाके से निकाला गया

दिल्ली.निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात के मरकज में 1 से 15 मार्च तक 5 हजार से ज्यादा लोगआए थे। इनमें इंडोनेशिया, मलेशिया और थाईलैंड के लोग भी शामिल थे। 22 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी यहां 2 हजार लोग ठहरे हुए थे। इनमें से 200 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की आशंका है। संदिग्धों को जांच के लिए अस्पताल भेजा गया है। इन्हें सर्दी, खांसी और जुकाम की शिकायत है।इस जगहसे 1200 लोगों को निकाला गया।दिल्ली सरकार ने पुलिस को मरकज के मौलाना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।निजामुद्दीन के पूरे इलाके से इस मरकज की इमारत को अलग-थलग कर दिया गया है।

 

निजामुद्दीन का यह मरकज इस्लामीशिक्षा का दुनिया में सबसे बड़ा केंद्र है।यहां कई देशों के लोग आते रहते हैं। मरकज से कुछ ही दूर सूफी संतनिजामुद्दीन औलिया की दरगाह है।लेकिन, इन दिनों यह बंद है।

यहां से जाने वाले 6 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे

मरकज में रुके लोगों से ज्यादातर अपने देशों और भारत स्थित शहरों में लौट गए थे। लौटकर गए लोगों में से 6 कोरोना पॉजिटिव पाए गए। एक व्यक्ति की मौत हो गई। हालांकि, मृतक की रिपोर्ट अभी नहीं आई है। स्वास्थ्य विभाग, डब्ल्यूएचओ, नगर निगम और पुलिस की टीमें यहां से लोगों को निकाल रही हैं।

मरकज में रहने वाले ज्यादातर लोगों की उम्र 60 से ऊपर
पुलिस ने बताया कि लॉकडाउन से पहले ही यहां से भीड़ हटाने के लिए प्रयास किए जा रहे थे। लोगों से अपील की जा रही थी। लेकिन, तब्लीगी मरकज में जमा लोगों ने बात नहीं सुनी। यहां रहने वाले लोगों में ज्यादातर लोगों की उम्र 60 साल से ऊपर है।

मरकज के आसपास के इलाके को पूरी तरह सील कर दिया गया है। पुलिस इस क्षेत्र की ड्रोन से निगरानी कर रही है।

एक ख़बर के अनुसार
*मरकज के मौलाना खिलाफ एफआईआर का आदेश दिल्ली सरकार ने दिया हैं।*
नई दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात का सेंटर (मरकज) के मौलाना के खिलाफ केजरीवाल सरकार एफआईआर दर्ज कराएगी. तबलीगी जमात के सेंटर से रविवार को दिल्ली के LNJP अस्पताल में 34 लोगों को जांच के लिए लाया गया और सभी कोरोना संक्रमण के संदिग्ध बताए जा रहे हैं. इसमें एक 64 साल के व्यक्ति की मौत हो गई. वो तमिलनाडु का रहने वाला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *