Crime Entertainment Health Politics Uncategorized

लॉकडाउन के कारण अपराधी बेरोजगार चैन स्नेचिंग , रोबरी और हप्ता वसूली के गिरावट तो बलात्कार और दंगा के मामलों में बढ़ोतरी

लॉकडाउन के कारण अपराधी बेरोजगार
चैन स्नेचिंग , रोबरी और हप्ता वसूली के गिरावट तो बलात्कार और दंगा के मामलों में बढ़ोतरी

मुंबई – इंद्रदेव पांडे

कोरोना महामारी को देखते हुए देश भर में लॉकडाउन घोषित किया गया है | लॉकडाउन के कारण देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के सड़को पर लोग गायब है | लॉकडाउन के दौरान पब्लिक से सूनी सड़कें बदमाशों की पहली मुसीबत बन गई हैं तो वंही दूसरी मुसीबत साबित हो रही है चप्पे-चप्पे पर मौजूद पुलिस और बैरिकेट्स | ऐसे में अपराधी बेरोजगार हो गए है | मुंबई के गंभीर अपराध में पिछले वर्ष की तुलना में 65 प्रतिशत गिरावट दर्ज किया गया है |जब की चैन स्नेचिंग , रोबरी जैसे की घटनाओ में कमी आई है जब की बलात्कार ,हत्या की कोशिस ,दंगा जैसे गंभीर मामलों में बढ़ोतरी हुआ है |
20 मार्च से देश भर में कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन घोषित किया गया है |इस लॉकडाउन के दौरान शहर में जगह जगह पर नाकाबंदी किया जा रहा है सड़को पर आम नागरिको को चलने पर मनाही किया गया है | इसके कारण सड़क सुन सान है | जिसके कारण सड़को पर होने वाले चैन स्नेचिंग ,लुट पाट की घटनाओ में कमी आई है | मुंबई पुलिस आयुक्तालय अंतर्गत इस वर्ष मार्च 2020 में कुल 3660 मामले दर्ज किए गए है जब की पिछले वर्ष मार्च महीने में 3368 मामले दर्ज किए गए थे |पिछले वर्ष चैन स्नेचिंग और जबरन चैन स्नेचिंग के 101 मामले दर्ज किए गए थे | जब की इस वर्ष मार्च में सिर्फ 64 मामले दर्ज किए गए है | पिछले वर्ष बंद का ताला तोड़ कर चोरी के 168 और सिर्फ चोरी के 483 मामले दर्ज किए गए थे | जब की इस वर्ष मार्च 2020 में बंद घरो का ताला तोड़कर चोरी के 110 और चोरी के 301 मामले दर्ज है |पिछले वर्ष मार्च 2019 में बलात्कार के 69 ,विनयभंग के 257 जब की अन्य मामलों के 1610 मामले दर्ज किए गए थे | जब की इस वर्ष मार्च 2020 में कोरोना के कारण 20 मार्च से लॉकडाउन घोषित किया गया है | इसके बावजूद बलात्कार के 73 ,विनयभंग के 235 और अन्य 2260 मामले दर्ज है अन्य मामलों में लॉकडाउन का उल्लंघन करने के मामलों का भी समावेश है |

लॉकडाउन के दौरान डकैती ,लूटपाट हप्ता वसूली के मामले शून्य

आर्थिक राजधानी मुंबई शहर में रोज कोई न कोई अपराध होते रहता है | उसे पुलिस स्टेशन के रिकोर्ड में भी आता है | लेकिन लॉकडाउन के दौरान इसमें कमी आई है ऐसे में एक उदहारण देना हो तो 21 मार्च से 30 मार्च तक डकैती ,डकैती डालने की कोशिस करने का एक भी मामला दर्ज नही है | हप्ता वसूली या घर में चोरी करने का एक भी मामला दर्ज नही किया गया है | इतना ही नही पाकिट मारी के एक भी मामला मुंबई के 94 पुलिस स्टेशन में दर्ज नही किया गया है जब की 20 मार्च से 9 अप्रैल तक लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालो के खिलाफ 4138 मामले दर्ज किए गए है जिसमे से 3174 आरोपी गिरफ्तार कर जमानत पर रिहा कर दिया गया है जब की 732 लोगो को नोटिश देकर छोड़ा गया है वंही इस मामले में अभी भी 231 आरोपियों की तलाश है |

मार्च 2019 और मार्च 2020 में दर्ज मामले

अपराध मार्च 2019 में दर्ज मामले मार्च 2020 में दर्ज मामले

हत्या 14 12
हत्या कोशिस 23 27
डकैती 0 1
जबरन चैन स्नेचिंग 90 55
चैन स्नेचिंग 11 14
हप्ता वसूली 11 13
बंद घर का ताला तोड़कर चोरी 168 110
चोरी 483 301
मोटर साइकल चोरी 199 193
मानसिक रूप से दुःख पहुचाना ( हर्ट ) 397 324
दंगा 36 42
बलात्कार 69 73
विनयभंग 257 235
अन्य मामले 1610 2260

कुल मामले — 3368 3660

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *