Entertainment Health Politics

फिल्मकार दीपक सारस्वत ने 40 दिन तक लॉकडाउन में फॅसे 200 मजदूरों को संभाला

फिल्मकार दीपक सारस्वत ने 40 दिन तक लॉकडाउन में फॅसे 200 मजदूरों को संभाला

कोरोना महामारी से पूरे देश में कोहराम मचा हुआ है मार्च से लगे लॉकडाउन में मजदूर जहां थे, वहीं फॅसे रह गये l इससे प्रभाव ऐसा पड़ा, कि मजदूर पैदल ही सैकड़ों किलोमीटर घर की ओर चल पड़े,ऐसे में कई सरकारी व सामाजिक संस्था ग़रीब व मजदूर लोगों की मदद के लिए सामने आई l

ऐसे में जाने माने समाज सेवक व फिल्मकार दीपक सारस्वत ने ऐसा किया जो आज इंसानियत का उदाहरण बन गया मायानगरी मुंबई स्थित,अँधेरी,मालाड, गोरेगाँव में भटक रहे गरीब मजदूर व भिखारी जिनका रहना,खाना पीना दूभर हो गया था, दीपक सारस्वत व उसकी टीम ने पहले 2 हफ्ते गोरेगाँव व मालाड स्टेशन से थोड़ी दूर अलग अलग जगह कैम्प लगा कर उनके रुकने की व्यवस्था कार्रवाई, फिर खाने पीने की व्यवस्था के लिए कई सामाजिक संस्थाओं व व्यक्तिगत लोगों से मदद की गुहार लगायी l

आज उन कैम्प में करीब 200 मजदूर फॅसे है, जिन्हें अपने अपने राज्यों को भेजने की व्यवस्था की जा रही है l इस राहत कार्य में सारस्वत बताते है की उन्होंने इस वर्ष की निजी जमापूंजी व उनकी आगामी हिंदी फीचर फिल्म की लागत भी लगा दी ताकि कोई मजदूर भाई भूखा ना रह पाए l

यूं तो दीपक सारस्वत पहले भी समाज सेवा के कई कार्य कर चुके हैं, किसी के साथ अन्याय हुआ हो या कोई ग़रीब परेशान हुआ, सारस्वत उसकी मदद के लिए खड़े नज़र आये,सोशल मीडिया पर उनका “Deepak Saraswat आवाज़ हिंदुस्तान की” नामक पेज भी है, जिसे लाखों लोग फॉलो भी करते हैं l

सोशल मीडिया व वेबसाइट के सन्दर्भ से ज्ञात हुआ है कि दीपक ने अब तक 1500 से ज्यादा छात्राओं को आत्म रक्षा व आत्मसम्मान के लिए प्रशिक्षित किया व अब तक 54 महिलाओं को वैश्यावृति से निकलकर स्वयं रोजगार को प्रेरित किया साथ ही
सैकड़ों महिलाओं के लिए महिला सशक्तिकरण व महिला आत्म सम्मान के लिए सभाएं व सेमिनार का भी आयोजित भी किया l

जब महाराष्ट्र में बाढ़ आया तो सैकड़ों बाढ़ पीड़ितों के लिए भोजन सामग्री व राहत व्यवस्था की साथ ही दीपक ने
समय समय पर गरीबों के लिए राशन वितरण कार्यक्रमों का आयोजन भी किया l

पुणे में 30 शिक्षिकों को सामाजिक विकास व नीतियों पर विश्लेषण और ट्रेनिंग कार्यक्रम
समय समय पर सामजिक मुद्दों पर बहस व मुंबई में सैकड़ों ग़रीब लोगों के न्याय के लिए फ्री सेवाएं,
नशा मुक्ति अभियान के अंतरगत 200 से अधिक युवाओं को सुधार केंद्र से जोड़ा गया चाहे फिर बेगुनाह कैदियों की रिहाई के लिए विशेष अभियान व वकील सुविधाएं हो या फिर देश में चल रहे विभिन्न आंदोलनों का हिस्सा एवं राजनैतिक मुद्दों में हस्तछेप दीपक ने हर जगह समाज के हित में काम किया है l

वैसे दीपक सारस्वत, फिल्मकार, फ़िल्म लेखक, निर्माता व निर्देशक हैं, जो कई टेलीविज़न ऐड व सीरीज बना चुके हैं, वो मीडिया व एंटरटेनमेंट कंपनी नमस्कार ग्रुप के मालिक भी हैं, जो मीडिया, फ़िल्म व ऐड निर्माण, इवेंट से जुडी हैं l

दीपक एक अच्छे वक्ता व कवि हैं, उन्हें कई रैलियों व सभाओं में बुलाया जाता है.

दीपक सारस्वत को ‘समाज भूषण’ साहित्य वीर ‘प्रखर वक्ता’ ‘पुलिस मैत्री सम्म्मान’ ‘बेस्ट डायरेक्टर’ ‘महाराष्ट्र गौरव’ जैसे कई सम्मानों से नवाज़ा गया है l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *