Entertainment Health Politics

जलालाबाद का दिगंबर जैन मंदिर,भारत मे आस्था का केंद्र के रूप में प्रसिद्ध।

जलालाबाद का दिगंबर जैन मंदिर,भारत मे आस्था का केंद्र के रूप में प्रसिद्ध।

जलालाबाद,शामली( उत्तर प्रदेश, ज़ीशान काज़मी)
कस्बा जलालाबाद स्थित दिगंबर जैन मंदिर उत्तर भारत में जैन धर्म श्रद्धालुओं का आस्था का केंद्र माना जाता है प्रसिद्ध तीर्थ स्थल के रूप में विख्यात है पार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर प्रबंध समिति के मधुर भाषी मंत्री सुशील कुमार जैन ने बताया कि कस्बा जलालाबाद आजादी के दीवानों के बलिदान एवं सांप्रदायिक सौहार्द के साथ ही यह धर्म नगरी भी है जैन समाज के लिए यह आस्था का केंद्र है इस पार्श्वनाथ जैन मंदिर में होने वाले समारोह में देश के कोने-कोने से श्रद्धालु यहां आते हैं धार्मिक प्रवचनों आदि से धार्मिक लाभ प्राप्त कर अपने जीवन को भगवान महावीर की शिक्षाओं का अनुसरण करने का अवसर प्राप्त करते हैं।

समिति के मंत्री सुशील कुमार जैन ने बताया कि 1906 से पूर्व जलालाबाद में सैकड़ों जैन परिवार बस्ते थे परंतु प्लेग की बीमारी से ग्रस्त हो गए जिनकी अधिकतर मौत हो गई बाकी पलायन कर गए केवल जयंती प्रसाद जैन का परिवार ही रह गया जो कस्बे का एकमात्र परिवार है। खंडहर हुए मंदिर को जीर्णोद्धार कार्य 1979 में शुरू किए गए समय परिवर्तन के साथ-साथ इस स्थान के प्रसिद्धि प्राप्त होती रही हैं।

26 जून 1980 को लघु पाषाण प्रतिमा स्थापित कराई ।आचार्य शांति सागर जी महाराज की प्रेरणा से नवीन शिखर निर्माण कराया गया ।सुशील कुमार जैन भावुकता के साथ बताते हैं कि जिस प्रकार आपस में मिलकर त्यौहार मनाते हैं यह संस्कृति यह भावना देश के कोने कोने में मानवता का ,एकता भाईचारा का संदेश दे रही है।हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई जिस प्रकार त्योहारों में एक दूसरे का स्वागत करते हैं यह जैन समाज द्वारा होने वाले कार्यक्रम का अनोखा रूप है। अतिशय क्षेत्र भव्य इमारत की शक्ल में श्रद्धालुओं का आस्था का केंद्र बना हुआ है जो भारतवर्ष में प्रसिद्ध हो चला है ।

यह गौरवपूर्ण है सुशील जैन ने बताया कि दिगंबर जैन समिति द्वारा समाजसेवी कार्यो को भी अंजाम देती है, गरीब निर्धन परिवारों, की सहायता भी करती रही है, सम्मान कार्यक्रमों, जिसमे प्रशासनिक अधिकारियों,पत्रकारों,समाजसेवियों, कस्बे के प्रबुद्ध नागरिकों आदि को प्रशस्ति पत्र,आदि से सम्मानित कर,कार्यक्रमो का भी आयोजन किया जाता रहा है।

धर्मार्थ ओषधायल भी है, हरा भरा वातावरण रहे पेड़ पौधों को लगाया जाता है। कोरोना संक्रमण के चलते अतिशय क्षेत्र समिति ने प्रधानमंत्री राहत कोष में, समिति के पदाधिकारियों जे के जैन, सतेंद्र जैन, आर के जैन, मुकेश जैन की उपस्थिति में, ( अरविंद कुमार ,ए डी एम )के माध्यम से, जिलाधिकारी शामली को बाइस हज़ार रुपये का चैक दिया गया ।

सुशील जैन ने बताया कि देश के कोने कोने से जैन समुदाय के श्रद्धालु इस आस्था केंद्र में आकर धार्मिक अनुष्ठान में भाग लेते रहे है।

सुशील जैन ने बताया कि समय समय पर प्रसिद्ध लोगो ने इससे पूर्व कार्यक्रमो में ,आई डी स्वामी पूर्व गृह राज्य मंत्री, भारत सरकार,वेदप्रकाश जी पूर्व पोत परिवहन,जहाज रानी मंत्री, भारत सरकार,सूरज भान जी,पूर्व राज्यपाल, उत्तर प्रदेश सरकार,तथा वर्तमान योगी सरकार के, क्षेत्रीय विधायक,गन्ना विकास मंत्री,सुरेश राणा, आदिने शामिल होकर धार्मिक लाभ प्राप्त किया,आस्था प्रकट की एवम जीवन मे सुख शांति सम्रद्धि प्राप्ति हेतु धार्मिक अनुष्ठान में भाग लेते रहे है।

जैन समुदाय द्वारा निकलने वाली
प्रतिवर्ष रथयात्रा का जगह जगह हिंदू मुस्लिम समाज के लोग रथ यात्रा में उमड़े श्रद्धालुओं का स्वागत करते हैं ,यह मनोहारी दृश्य एवं आपसी सद्भाव भाईचारा सांप्रदायिक सौहार्द एकता का ऐसा अद्भुत दृश्य, ऐसा क्षण होता है जो हर एक के मन को मन मोह लेता है और इस कस्बे में आने वाले अतिथियों को यह कहने पर मजबूर कर देता है।

वाह! क्या बात है ।ऐसी संस्कृति ऐसे संस्कार वास्तव में कस्बा जलालाबाद की परंपरा एवं इतिहास ही है यह परंपरा और इतिहास सदैव कायम रहे हम यही कामना करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *