Health Politics

लॉकडाउन में गरीबों की हालत हो गई खराब, नीतीश कुमार मजदूरों की मदद नहीं बल्कि वोट के इंतजाम में जुटे।

लॉकडाउन में गरीबों की हालत हो गई खराब, नीतीश कुमार मजदूरों की मदद नहीं बल्कि वोट के इंतजाम में जुटे।

समस्तीपुर (जकी अहमद)

जन अधिकार पार्टी के युवा परिषद के नेता सतेंदर कुमार रॉय ने लॉकडाउन को लेकर बिहार और केंद्र सरकार पर हमला बोला है. रॉय ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर कोई तैयारी पहले से नहीं की गई थी. अचानक लॉकडाउन होने से सबसे अधिक गरीबों पर असर पड़ा है.

गरीबों की स्थिति खराब हो गई है. लॉकडाउन में लाखों रोजगार लोग बेरोजगार हो गए है. उनको नौकरी से निकाल दिया गया है. नीतीश कुमार प्रवासी मजदूरों की मदद नहीं बल्कि वोट का इंतजाम कर रहे हैं.सत्येंद्र कुमार ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी देश के गरीबों के बारे में कुछ नहीं सोचते हैं. अचानक देश पर लॉकडाउन थोप दिए. इससे पहले नोटबंदी के दौरान ही यही स्थिति हुई थी.अचनाक हुई नोटबंदी की वजह हम पहले से ही आर्थिक तंगी झेल रहे थे, जन अधिकार पार्टी के युवा परिसद के नेता ने तब्लीगी जमात को लेकर कहा कि जमात के नाम पर एक खास समुदाय के लोगों को टारगेट कर बदनाम किया गया है.

बिहार आने वाले प्रवासी मजदूरों के साथ भेदभाव किया जा रहा है. जब संक्रमित हो गए तो बिहार बुलाया जा रहा है. लाखों लोग पैदल चलकर बिहार आ रहे है. सैकड़ों लोग पैदल चलते-चलते मर गए. नीतीश कुमार प्रवासी मजदूरों की मदद नहीं बल्कि वोट का इंतजाम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *