Bihar Cricket Crime Delhi Education Entertainment Gujarat Health International Madhya Pradesh Maharashtra National Politics Social States Uncategorized Uttar Pradesh West Bengal

किसान विरोधी तीनों काला कानून का जुलूस निकालकर पूतला फूंका।

किसान विरोधी तीनों काला कानून का जुलूस निकालकर पूतला फूंका।

स्वामीनाथन आयोग का रिपोर्ट लागू करे सरकार- ब्रहमदेव प्रसाद सिंह

समस्तीपुर (जकी अहमद)

किसान विरोधी तीनों काला कानून, बिजली बिल 2020 को वापस लेकर दिल्ली में जारी किसान आंदोलन के समर्थन में बुधवार को बाजार क्षेत्र के गांधी चौक पर अखिल भारतीय किसान महासभा एवं भाकपा माले ने संयुक्त रूप से जुलूस निकालकर उक्त कानून का पूतला फूंका गया।
मोतीपुर खैनी गोदाम से नारे लिखे तख्तियां, झंडे, बैनर लेकर संगठन द्वय के कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकाला जो मुख्य मार्गों का नारे लगाते हुए भ्रमण कर गांधी चौक पहुंचकर एक सभा का आयोजन किया।
अध्यक्षता किसान नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह ने किया। संजीव राय, मुंशीलाल राय, मो० जावेद, रवींद्र प्रसाद सिंह,जीतन शर्मा, मो० गुलाब, विष्णुदेव कुमार, मुकेश मेहता, मो० नसीम, ऐपवा जिलाध्यक्ष सह माले नेत्री बंदना सिंह समेत अन्य वक्ताओं ने आहूत सभा को संबोधित किया।
बतौर मुख्य वक्ता सभा को संबोधित करते हुए भाकपा माले प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि रेल, जहाज, बैंक, एलआईसी, एचपीसीएल, बीएसएलएन, लालकीला आदि कारपोरेट कंपनीयों को सौंपने के बाद मोदी सरकार कृषि एवं कृषि उत्पादों को अडानी- अंबानी को सौंपना चाहती है।सरकार स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने से कतरा रही है। किसानों को कारपोरेट और विचौलिया के चंगुल में फंसाया जा रहा है. इसे देश के किसान बर्दाश्त नहीं करेंगे,उन्होंने दिल्ली में किसान आंदोलन पर सरकार के ईशारे पर की गई पुलिसिया दमन की निंदा करते हुए कहा कि इतिहास गवाह है कि जो सरकार किसानों से टकराई है, वो सरकार जमिंदोज हो गई है।उन्होंने कहा कि अगर उक्त काला कानून वापस नहीं लिया गया तो मोदी सरकार को भी किसान सत्ता से उखाड़ फेकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *