Bihar Delhi Gujarat Health International Madhya Pradesh Maharashtra National Social States Uncategorized Uttar Pradesh West Bengal

देश में अब बर्ड फ्लू का संकट। 7 राज्यों में बढ़ा खतरा। अंडे और नोन व्हेज़ की दूकाने होंगी बंद।

देश में अब बर्ड फ्लू का संकट। 7 राज्यों में बढ़ा खतरा। अंडे और नोन व्हेज़ की दूकाने होंगी बंद।

मुंबई शोएब म्यानुंर
नेशनल डेस्क: कोरोना महामारी के बीच अब बर्ड फ्लू (avian influenza) ने चिंता बढ़ा दी है। बर्ड फ्लू देश के सात राज्यों तक पहुंच गया है। मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, केरल के साथ ही अब बर्ड फ्लू गुजरात, हरियाणा, तमिलनाडु और जम्मू-कश्मीर तक भी पहुंच गया है। इन राज्यों में बड़ी संख्या में कौवे और अन्य पक्षी मर रहे हैं। वहीं केंद्र सरकार ने राज्यों को अलर्ट जारी करते हुए कहा कि जिन इलाकों में बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौतें हो रही हैं, वहां से सैंपल लेने की जरूरत है। इसके साथ ही राज्य सरकारों ने उन क्षेत्रों में कुछ प्रतिबंध लागू करने के भी आदेश दिए हैं जहां पक्षियों की मौत के मामले सामने आए हैं। ऐसी जगहों पर पोल्ट्री फॉर्म आदि बंद करवाए जा रहे हैं, साथ ही दुकानों पर अंडों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

केरल में मुर्गों और बत्तखों को मारना शुरू
केरल में मुर्गों और बत्तखों को मारना शुरू कर दिया गया है। केरल में फ्लू के कारण करीब 1700 बत्तखों की मौत हो गई है। केरल में अलप्पुझा और कोट्टायम में प्रभावित क्षेत्रों के एक किलोमीटर के दायरे में पक्षियों को मारने का अभियान शुरू किया गया। अलप्पुझा जिला प्रशासन ने कहा कि कुट्टनाड क्षेत्र की चार पंचायतों नेदुमुदी, तकाजी, पल्लिप्पद और करुवत्ता में अभियान शुरू किया गया, जिसके बुधवार शाम तक पूरा होने की संभावना है। इन्हीं इलाकों में बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं। एक अधिकारी ने कहा कि अकेले करुवत्ता पंचायत क्षेत्र में ही करीब 12,000 पक्षियों को मारा जाएगा। प्रशासन के मुताबिक, कोट्टायम जिले की प्रभावित नींदूर पंचायत में अब तक करीब 3,000 पक्षियों को मारा जा चुका है। नींदूर के एक बत्तख पालन केंद्र में बर्ड फ्लू के कारण करीब 1,700 बत्तखों की मौत हो गई है। अधिकारियों के मुताबिक, वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए कुट्टनाड क्षेत्र में ही करीब 40,000 पक्षियों को मारा जाएगा। हालात काबू में होने के बावजूद प्रशासन ने जिलों में हाई अलर्ट जारी किया है, क्योंकि यह वायरस मनुष्य को भी संक्रमित करने की क्षमता रखता है। अलप्पुझा के जिलाधिकारी ने कुट्टनाड और कार्थिकपल्ली तालुकाओं में मुर्गी और बत्तख समेत अन्य घरेलू पक्षियों के मांस, अंडों आदि की बिक्री और कारोबार पर रोक लगा दी है।

उत्तराखंड में अलर्ट जारी
पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश में दस्तक दे चुके बर्ड फ्लू के खतरे को देखते हुए उत्तराखंड ने भी अलर्ट जारी किया है, हालांकि राज्य में अब तक किसी पक्षी की मौत का कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है लेकिन प्रदेश के सभी वन प्रभागों को बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट रहने और सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। उन्होंने बताया कि अधिकारियों को आसन रिजर्व, झिलमिल झील, नानक सागर बांध और अन्य जगहों पर सतर्कता बरतने को कहा गया है। हर साल सर्दियों में बडी संख्या में प्रवासी पक्षी मध्य एशिया से उत्तराखंड आते हैं और यहां मार्च तक रहते हैं।

मध्यप्रदेश में भी बर्ड फ्लू का कहर
मध्यप्रदेश के इंदौर में कौवों में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद मंदसौर और आगर मालवा जिलों के कौवों के नमूनों में भी H5N8 संक्रमण पाया गया है। इनके अलावा, प्रदेश के सात अन्य जिलों में मरे कौवों के नमूनों को जांच के लिये भेजा गया है। मध्यप्रदेश के 52 जिलों में से 10 जिलों में 23 दिसंबर से अब तक कौवों की मौत का आंकड़ा लगभग 400 पहुंच गया है। हालांकि, प्रदेश सरकार का कहना है कि मुर्गा और अंडे खाने से मानव स्वास्थ्य को खतरा नहीं है। मध्यप्रदेश में हो रही कौवों की मृत्यु पर प्रभावी नियंत्रण लगाने के लिये प्रदेश सरकार ने सोमवार को बर्ड फ्लू को लेकर अलर्ट जारी किया था।

जम्मू-कश्मीर में भी जांच शुरू
जम्मू कश्मीर ने अलर्ट घोषित कर दिया है और प्रवासी पक्षियों के नमूने लेने शुरू कर दिए हैं। साथ ही सर्दियों के मौसम में केंद्र शासित प्रदेश में आए मेहमान पक्षियों की जांच के लिए नमूने एकत्र करने शुरू कर दिए हैं। जम्मू- कश्मीर में अधिकारियों ने बताया कि पशुपालन एवं वन्यजीव विभाग के संयुक्त दलों ने मंगलवार को जम्मू के आरएस पुरा सेक्टर स्थित घराना वेटलैंड (आर्द्रभूमि) का दौरा किया और जांच के वास्ते 25 पक्षियों के नमूने एकत्र किए ताकि यह पता लगाया जा सके कि कहीं कोई पक्षी घातक वायरस की चपेट में तो नहीं है?

तमिलनाडु-कर्नाटक में अलर्ट
केरल में पक्षियों के संक्रामक रोग के प्रकोप के बाद पड़ोसी कर्नाटक और तमिलनाडु ने निगरानी बढ़ा दी है और दिशा-निर्देश जारी किए हैं। तमिलनाडु सरकार ने पड़ोसी राज्य केरल में बर्ड फ्लू का प्रकोप होने के बाद मंगलवार को अंतरराज्यीय सीमाओं पर निगरानी बढ़ा दी है तथा इससे मनुष्यों के प्रभावित होने के संभावित मामलों से निपटने के लिए आकस्मिक योजना की घोषणा की है। तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन ने कहा कि एवियन इन्फ्लुएंजा तेजी से फैलता है और मनुष्यों के भी इससे प्रभावित होने की आशंका होती है। इसलिए एहतियात के तौर पर स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय ने आकस्मिक योजना तैयार की है। कर्नाटक सरकार ने महाराष्ट्र से लगने वाली सीमा पर स्थित जिलों में सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।

हिमाचल में 2700 प्रवासी पक्षी मरे
हिमाचल प्रदेश के अधिकारियों ने प्रदेश में पोल्ट्री पक्षियों में संक्रमण फैलने से रोकने के लिए मंगलवार को कांगड़ा जिले के पोंग डैम लेक अभयारण्य के आसपास के इलाकों का सर्वेक्षण किया। इससे एक दिन पहले मृत प्रवासी पक्षियों के नमूनों में H5N8 पाया गया था। हिमाचल प्रदेश के पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इलाके में अबतक 2700 प्रवासी पक्षी मृत मिले हैं।

महाराष्ट्र में बर्ड फ्लू का कोई मामला नहीं
महाराष्ट्र में बर्ड फ्लू का कोई मामला अबतक सामने नहीं आया है। महाराष्ट्र की सीमा मध्य प्रदेश से लगती है। हिमाचल प्रदेश के अधिकारियों ने प्रदेश में पोल्ट्री पक्षियों में संक्रमण फैलने से रोकने के लिए मंगलवार को कांगड़ा जिले के पोंग डैम लेक अभयारण्य के आसपास के इलाकों का सर्वेक्षण किया। इससे एक दिन पहले मृत प्रवासी पक्षियों के नमूनों में एच5एन8 पाया गया था। हिमाचल प्रदेश के पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इलाके में अबतक 2700 प्रवासी पक्षी मृत मिले हैं।

राजस्थान में 625 पक्षियों की मौत
राजस्थान के अधिकारियों ने बताया कि कोटा और बांरा जिलों के पक्षियों के नमूनों के जांच परिणामों में भी एवियन इंफ्लूएंजा पाया गया है। राज्य के कृषि और पशुपालन विभाग के मंत्री लाल चंद कटारिया ने बताया कि राज्य के तीन जिलों–झालावाड़, कोटा और बारां– में एवियन इंफ्लूएंजा (बर्ड फ्लू) संक्रमण पाया गया है और वायरस अन्य जगहों पर भी फैल रहा है जो चिंता का विषय है। अधिकारियों ने बताया कि राजस्थान के 33 जिलों में से 16 जिलों में मंगलवार सुबह तक पक्षियों की मौत का आंकड़ा 625 पहुंच गया। 11 जिलों के 86 नमूनों को जांच के लिये भेजा गया है।

क्या है बर्ड फ्लू?
एवियन इन्फ्लूएंजा (H5N8) वायरस का एक सबटाइप है जो खास तौर से पक्षियों के जरिए फैलता है। यह बीमारी पक्षियों के बीच बहुत तेजी से फैलती है। यह इतनी घाचक होती है कि पक्षियों की मौत हो जाती है। पक्षियों से यह बीमारी इंसानों में भी फैलती है। इस वायरस की पहचान पहली बार 1996 में चीन में की गई थी। एशियाई H5N8 मनुष्यों में पहली बार 1997 में पाया गया जब हांगकांग में एक पोल्ट्री फॉर्म की मुर्गियां संक्रमित हो गई थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *