Crime Health International Maharashtra National Politics Social States Uncategorized

भाजपा विधायक राम कदम के खिलाफ युवा सेना ने मुंबई के कई जगहों पर किया विरोध प्रदर्शन।

भाजपा विधायक राम कदम के खिलाफ युवा सेना ने मुंबई के कई जगहों पर किया विरोध प्रदर्शन।

मुंबई:-मनोज दुबे

मुंबई: युवा सेना ने आज अपने कार्यकर्ताओं के साथ मुंबई में कई जगह भाजपा विधायक राम कदम के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया।युवा सेना के कार्यकताओं ने बीजेपी विधायक राम कदम के खिलाफ नारे बाजी की और आपत्तिजनक बयान दिया है। जिन्होंने आरोपियों को छुड़ाने के लिए पुलिस को बुलाया। आरोपियों को रिहा करने के लिए पुलिस पर दबाव बनाने वाले विधायक राम कदम के खिलाफ युवसेना ने मुंबई में विभिन्न स्थानों पर आज दोपहर डेढ़ बजे आंदोलन किया।
मुंबई के पवई पुलिस स्टेशन के कॉन्स्टेबल नितिन खैरमोड़े को सोमवार दोपहर भाजपा कार्यकर्ताओं ने बेरहमी से पीटा था।तीन भाजपाई कार्यकर्ता ने पुलिस कांस्टेबल से मारपीट की थी जिनके नाम दीपू तिवारी, सचिन तिवारी और आयुष राजभर हैं। घटना में पुलिस कर्मी नितिन खैरमोडे घायल हो गए। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। लेकिन घंटों के भीतर विधायक राम कदम ने पुलिस कांस्टेबल नितिन खैरमोड को बुलाया और उनसे आरोपी को रिहा करने का अनुरोध किया। इसे महसूस करते हुए शिवसेना ने राम कदम पर निशाना साधा है। युवकसेन राम कदम के विरोध में आज मुंबई में आंदोलन करने जा रहे हैं।

घाटकोपर(प) स्टेशन रोड वेलकम होटल के पास, वर्ली नाका, दादर में शिव सेना भवन, कांदिवली पूर्व में शिव सेना शाखा आंदोलन चेतना कॉलेज, बांद्रा, अंधेरी पूर्व रेलवे स्टेशन और गोरेगांव पूर्व रेलवे स्टेशन के पास धरना प्रदर्शन किया गया।

आखिर क्या है मामला?

हिरानंदनी पवई गैलेरिया मॉल के पास सोमवार को एक वरिष्ठ महिला चिकित्सक की कार को भाजपा कार्यकर्ताओं ने टक्कर मार दी थी।बताया जा रहा है कि भाजपा कार्यकर्ता दो पहिया वाहन पर ट्रिपल सीट मोटरसाइकिल चला रहे थे। घटना की जानकारी मिलेते ही पवई पुलिस मौके पर पहुंची। उन्होंने तीन आरोपी सचिन तिवारी, दीपू तिवारी और आयुष राजभर को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों को रिक्शा में ले जाते समय आरोपियों ने कॉन्स्टेबल नितिन खैरमोडे के साथ मारपीट की। आरोपियों ने हथकड़ी से कॉन्स्टेबल के चेहरे पर हमला किया और गाल पर थप्पड़ भी मारा।
नितिन खेरमोड़े और राम कदम के बीच फोन पर बातचीत हुवी।
गिरफ्तारी के कुछ ही घंटों के भीतर ही राम कदम ने नितिन खैरमोड़े को फोन कर कहाँ की “दीपू ने जो किया वह गलत है। मैं इसका समर्थन नहीं कर सकता उसने अभी तक शादी नहीं की है लेकिन उसका करियर अभी तक शुरू नहीं हुआ है।तब नितिन खैरमोड़े ने कदम से कहाँ अगर पुलिस पर हमला करने वालों को दंडित नहीं किया जाता है, तो गलत संदेश समाज में जाएगा, इसलिए मैं चाहता हूं कि अभियुक्तों को दंडित किया जाए, ”शिकायत को वापस लेने से इनकार करते हुए, खैरमोड ने कहा।
एकनाथ शिंदे ने कहाँ पुलिस को हमलावरों को छोड़ना दुर्भाग्यपूर्ण है।
इस बीच शिवसेना के विधायक एकनाथ शिंदे ने भी विरोध जताया है। उन्होंने कहा, “कोविद की अवधि के दौरान हमारे पुलिस कर्मियों ने अपनी जान खतरे में डालकर लोगो की सेवा की है।कोरोना काल मे कई पुलिसकर्मीयो की मौत हो गयी। ऐसे पुलिसकर्मियों को पीटा जाना रक गंभीर अपराध है। अपराधियों को छुड़ाने की कोशिश करना भी एक अपराध है। मंत्रियों, विधायकों, पदाधिकारियों को पुलिस और उन्हें पीटने वाले लोगों द्वारा संरक्षित किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *