Bihar Delhi Gujarat Health International Madhya Pradesh National Politics Social States Uncategorized Uttar Pradesh West Bengal

राकेश टिकैत को क्यों रोना पड़ा और क्यों नाराज़ हुए किसान वरिष्ठ पत्रकार चौधरी अफज़ल नदीम की खास रीपोर्ट-

राकेश टिकैत को क्यों रोना पड़ा और क्यों नाराज़ हुए किसान वरिष्ठ पत्रकार चौधरी अफज़ल नदीम की खास रीपोर्ट-

नई दिल्ली-26 जनवरी जहाँ देश 72 वां गणतंत्र दिवस मना रहा था वहीं हिंदुस्तान की किसान मौजूदा सरकार से अपनी फरयाद पे फरयाद कर रहा था दिल्ली बॉर्डर पर लगभग दो महीनों से भी ज्यादा हो चला है लेकिन सरकार के कान तक आवाज़ तक नही पहुँची है बैठक पे बैठक नतीजा कुछ भी नही आखिर दोष किसका कहा जाये सरकार का या देश के अन्नदाता का यह बहुत बड़ी सवाल है?हिंसा की घटना से किसान खुद शर्मिंदा क्यू थे? नेताओं की तरह सीना तान कर सही नहीं ठहरा रहे थे और न भाग रहे थे। बार बार कह रहे थे कि हिंसा ग़लत हुई किसान यूनियन के अध्यक्ष राकेश टिकैत बार बार कह रहे थे और रो पड़े अगर किसानों का इरादा हिंसा का होता तो लाखों किसान थे। ज़्यादातर शांति से तय रूट पर गए और लौट गए। जिसने हिंसा की उसे लेकर कोई तरह के सवाल है? क्या ये किसी साज़िश का हिस्सा हैं? कभी पता नहीं चलेगा। आखिर क्यों यह बहुत बड़ी सवाल है?
लेकिन इस घटना से जैसे सरकार को उग्र होने का मौक़ा मिल गया। धार्मिक संगठनों को आगे किया गया और फिर से गोली मारने के नारे लगे। किसानों को दमन का भय दिखाया गया। सरकार गोदी मीडिया और पुलिस प्रशासन अति उग्र हो गये जबकि सरकार को हिंसा के बाद बात करनी चाहिए कि अभी हालात ठीक नहीं है। आप लोग वापस जाएँ और फिर बात होगी लेकिन अपने ही देश के किसानों को गिद्ध और आतंकवादी कहा जाने लगा। जो लोग दिन रात हिंसा की राजनीति करते हैं वो हिंसा से शर्मिंदा किसानों को उपदेश दे रहे थे। जबकि बात कर माहौल ठंडा करना चाहिए था। मुमकिन था कि किसान लौट भी जाते और जाने भी लगे थे। बोल के लव आज़ाद है।
मगर गोदी मीडिया के ज़रिए लगातार हवा को गर्म किया गया। गोदी मीडिया से आप क्या नहीं करा सकते हैं आजकल? ये वो मीडिया है जो किसी को भी हत्यारा साबित कर दे। लोग जाने कब समझेंगे कि इसके कारण सीमा पर अपना बेटा भेजने वाला देश वह किसान अपने ही गाँव,समाज, में अपने ही देश में सफ़ाई दे रहा है कि वह आतंकवादी नहीं है।और गोदी मीडिया के असर से मिडिल क्लास चुप रहा। अजीब है। कम से कम ग़लत को ग़लत तो कहना चाहिए।
बहरहाल अब आगे क्या होगा? किसानों को पता है उनके पास एक ही चीज है। किसान होने की पहचान। वो ख़त्म हो गई तो वे उस धान के समान हो जाएँगे जिसका पूरा दाम नहीं मिलता है। हिंसा की आड़ लेकर किसानों पर हमला नहीं करना चाहिए था। वे खुद कह रहे थे कि जिसने हिंसा की है उससे नाता नहीं और उसके ख़िलाफ़ तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए। आज तो गोदी मीडिया ने अति ही कर दिया है। शर्म आनी चाहिए।
ख़ैर एक बात साफ है। किसान आंदोलन के नेताओं ने देख लिया कि हिंसा की एक घटना पूरे आंदोलन को ख़त्म कर देती है। इसलिए शांति से चलने वाला आंदोलन ही दूर तक जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *