Crime Entertainment Health International Maharashtra National Politics Social States Uncategorized

मुंबई शहर को भिखारी मुक्त बनाने का प्रत्यन शुरू। सह पुलिस आयुक्त विश्वास नागरे पाटिल ने सिंगनल पे भीख माँगमे वाले भिखारियों पे दिए कारवाई के आदेश।

मुंबई शहर को भिखारी मुक्त बनाने का प्रत्यन शुरू।
सह पुलिस आयुक्त विश्वास नागरे पाटिल ने सिंगनल पे भीख माँगमे वाले भिखारियों पे दिए कारवाई के आदेश।

मुंबई:-मनोज दुबे(क्राइम रिपोर्टर)

मुंबई में बहोत जल्द अब नाके और ट्रैफिक सिग्नल पर भीख मांगने वाले भिखारियों पे की जाएगी कारवाई।
मुंबई पुलिस की तरफ से भिखारियों को सड़क से हटाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा।भिखारियों के लिए एक केंद्र बनाया जाएगा।सड़को पे भीख मांगने वाले भिखारियों को पकड़ के इन केंद्रों में रखा जाएगा।साथ ही भिखारियों की कोरोना जांच भी जाएगी।

मुंबई पुलिस की इस मुहिम के बारे में सह पुलिस आयुक्त विश्वास नागरे पाटिल ने कहा कि अक्सर यह देखा जाता है कि भीख मांगने के लिए बच्चों का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे लोगों में सहानुभूति पैदा होती है और लोग पैसा देते हैं। पैसे के लालच में बच्चों को अनावश्यक पीड़ा पहुचाई जाती है। भीख मांगने के लिए बच्चों की चोरी तक कि जाती है। इसके अलावा मुंबई में दिन प्रतिदिन भिखारियों की संख्या बढ़ रही है। इसलिए इस मुहिम की शुरुआत फरवरी माह से की गई है।

विश्वास नागरे पाटिल ने बताया कि इस मुहिम के तहत पहली कार्रवाई आजाद मैदान पुलिस स्टेशन ने की है। इस कार्रवाई के अंतर्गत 14 भिखारियों को पकड़ा गया है। इन सभी लोगों की कोरोना जांच के बाद इन्हें चेंबूर स्थित भिखारी स्वीकार केंद्र में रखा जाएगा। कुछ लोगों ने भीख मांगने को अपना व्यवसाय बना लिया है। वैसे कानूनी रुप से भीख मांगना अपराध है। इसलिए अब पुलिस ने मुंबई को भिखारी मुक्त बनाने के लिए कड़ी कड़ी तैयार की है।भिखारी बनकर कुछ लोग सिंग्नल पे कार या बाइक से लोगो के मोबाइल और कीमती चीज लेके भाग जाते है।भीख मांगने के लिए बच्चो का इस्तमाल किया जाता है इस लिए बच्चा चोरी करने की वारदात बढ़ती जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *