Bihar National Social

कोरोना महामारी में भारतीय समाज के शिक्षित युवाओं को सताने लगा है रोजगार की चिंता।

कोरोना महामारी में भारतीय समाज के शिक्षित युवाओं को सताने लगा है रोजगार की चिंता।

समस्तीपुर(जकी अहमद)

समस्तीपुर राजद के सीनियर लीडर अकबर अली ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि कोरोना संक्रमण ने भारत को अपने सबसे खराब और चुनौतीपूर्ण दौर में पहुँचा दिया है। आज न सिर्फ़ लोग बीमार हो रहे है और मारे जा रहे है-बल्कि देश की स्वास्थ्य सेवाएं भी चरमराती नजर आ रही है। एक तरफ ‘ यह विकरालता है तो दुसरी तरफ़ लोगों की दुश्वारियां बढाता रोजगार पर संकट है। हमारे भारत देश में कोरोना के कहर के बीच बडे पैमाने पर बेरोजगारी बढी है। सरकारों के पास राहत की कोई तात्कालिक नीति नही दिख रही है ‘ तो क्या हमारा भारत एक नये संकट की ओर बढ रहा है। जिसमें जीवन ‘ स्वास्थ्य ‘ भोजन ‘ रोजगार ‘ पर्यावरण ‘ सब कुछ दावं पर लग गया है। या फिर यह समय नीतियों की दूरदर्शिता और आपातकाल एक्शन के दम पर बदला जा सकता है। पिछले चार महीनों में बेरोजगारी की दर काफी नीचे स्तर आ गिरा है ‘ इसमें शहरी इलाकों में सबसे अधिक चिंताजनक स्तिथी में है। खासकर भारतीय समाज के ग्रामीण क्षेत्रों में सबसे बुरी स्तिथी में है-बेरोजगारी संकट से निपटने के लिये–केंद्र सरकार को प्री-एक्टिव कदम उठाते हुए दूरगामी नीति बनानी होगी। खासकर इसमें सभी राज्यों एवं आर्थिक ‘ सामाजिक ‘ स्वास्थ्य व विधि विशेषज्ञों को साथ लेना होगा ‘ यह केंद्र ही नही ‘ सभी राज्यों की सरकारों की कार्य क्षमता के लिए भी कडे इम्तिहान का समय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *