Crime Health Politics

क्वारंटीन सेंटर के मृत रसोइया के बेसहारा विधवा को दिया 20 हजार रू० का मदद- बंदना सिंह

क्वारंटीन सेंटर के मृत रसोइया के बेसहारा विधवा को दिया 20 हजार रू० का मदद- —- बंदना सिंह


दोयम दर्जे का कर्मी समझने वाली सरकार को चुनाव में सबक सीखाएगी रसोइया संघ- नौशाद तौहिदी।

ताजपुर क्वारंटीन सेंटर के मृत रसोइया उमेश महतो के बेसहारा विधवा संजूल देवी को 20 हजार रू० सहायता राशि के रूप में शुक्रवार को ऐपवा जिलाध्यक्ष सह भाकपा माले नेत्री बंदना सिंह के नेतृत्व में पहुंची टीम ने उनके कस्बे आहर स्थित आवास पर सौपा. मौके पर माले प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह, माले नेता ब्रहमदेव प्रसाद सिंह, पंसस नौशाद तौहिदी, मो० एजाज, जीतेंद्र सहनी, राजदेव प्रसाद सिंह समेत दर्जनों सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

महिला नेत्री बंदना सिंह ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि सरकार रसोइया को दोयम दर्जे की कर्मी समझती है. आज तक मृत रसोइया को सरकारी सहायता राशि नहीं दिया गया. यह मृतक के परिजनों के साथ अन्याय है. विधवा से मिलकर कई जनप्रतिनिधियों ने शोक व्यक्त किया,तस्वीर खींचातानी लेकिन किसी ने उनकी सहायता नहीं की. इस जनविरोधी कदम से नाराज भाकपा माले एवं ऐक्टू से जुड़े बिहार विद्यालय रसोइया संघ के सरोज चौबे के पहल पर एवं पटना की मीरा दत्ता की ओर यह सहायता राशि दी गई है. उन्होंने मृतक निजी रसोईया के विधवा को सरकार 4 लाख रूपये मुआवजा, आवास, विधवा को नौकरी आदि सरकारी सुविधा देने की मांग की अन्यथा संघर्ष जारी रखने की घोषणा माले नेता ने की.

ऐसा नेत्री ने बताया कि मृतक रसोइया ही कमाकर परिवार के रोजमर्रे की खर्चे चलाते थे. उनकी विधवा भूमिहीन है. फूंस का घर है. अभी एक पुत्री की शादी करनी बाकी है. 4 पुत्रों की शिक्षा- दीक्षा देना है. इस परिस्थिति में सरकारी सहायता मिलना चाहिए. मौके पर उन्होंने अन्य दलों एवं संगठनों से सहयोग देने की अपील भी की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *